भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम ही क्यों ? / संजय अलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कहते हैं मरने में समय नहीं लगता
तब भी तिल-तिल कर मारा जाता है
तब मृत्यु गर्व हो या शर्म

अब यह भी कहा जा रहा है
नहीं मरना, गरीब की तरह
न ही कला के लिए
 
हड्डियों के बाकी रहते
उसमें भी कतर-ब्योंत तो होगी ही
आत्मा भी वितरित की जाएगी
उसमें तुम्हारी तस्वीर नहीं होगी
न ही तुम्हारी मिट्टी
 
हताश नहीं हो
साथ तब भी है
राजा का, युद्ध का, गबन का, रोग का

तब भी प्रश्न उठ रहे है
तुम ही क्यों?