भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तुम हो गए उदास / हरप्रीत कौर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुःख को समेटकर
मैंने जिन्दगी को
एस.एम.एस. किया
सब ठीक है

खिड़की की चिटखनियों को खोलकर
कहा हवा से
‘ठीक है सब’

चिड़िया से कहा
कमरे में बनाने को घोंसला
देने को अण्डे
प्रेम से कहा डालने को लंगर
किताबों को कुतर रहे चूहों से कहा
कुतरने में लाने को रिद्म

खुद से कहा
टूटकर करने को प्रेम

इतना सा कहा तुमसे
‘लौट जाओ’
और तुम हो गए उदास!