भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम / संजय शाण्डिल्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे वेदों में साम
रामचरितमानस में राम
और महाभारत में गीता

जैसे संसृति में मानव
जैसे मानव में मन
और मन में हो ईश्वर

वैसे ही
मेरे जीवन में, प्रिये, तुम