भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुलसी / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरनी देखा धरनिमें, भगवन्ता नहि कोय।
तुलसी हुलसी फूलसी, बड भागी नर सोय॥1॥

धरनी वरनी सकै नहि, महिमा तुलसीमाल।
जाते संगीत साधुकी, कटै कर्म को जाल॥2॥

धरनी भेष अलेख है, तुलसी को अधिकार।
भक्त कहावै ताहि छिन, शिर नावै संसार॥3॥

धरनी धनि सो आतमा, माँगहि तुलसीमाल।
व्याधा बहुतै कालको, पल में भयो दयाल॥4॥

कोइ भक्ता कोइ साधुकह, कोइ फकीर कोइ दास।
धरनी सुनि 2 श्रवन सुख, हिये बढत विश्वास॥5॥

धरनी हाथी का चढो, का पदुमिनी-पलंग।
कनक तुला चढ़ि का भयो, चढ़ी न तुलसी अंग॥6॥