भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तूं न विसार / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुंहिंजा सतगुरु तूं न विसार
मंुहिंजा मालिक तूं न विसार
दुखनि आहे दिल खे दुखायो

मां त कयड़ी कीन कमाई
सारी उमिरि मां अंध में विञाई
साईं दर तां तूं न धिक्कार
दुखनि आहे दिलि खे दुखायो

हिक सूरीअ साहु सुकायो
ॿियो झोरीअ जीउ जलायो
टियों ॻुझो ई लॻो थमि ॻारु
दुखनि आहे दिल खे दुखायो

मां त आहियां निधर निमाणी
अची बाबल तूं थी साणी
साईं मुअलनि खे तूं न मार
दुखनि आहे दिल खे दुखायो

हीअ ‘निमाणीअ’ खे आहे आसी
तुंहिंजे दर्शन जी आहियां प्यासी
करियो सागर खां तूं पार
दुखनि आहे दिल खे दुखायो