भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू कहाँ जाएगी कुछ अपना ठिकाना कर ले / मोमिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू कहाँ जाएगी कुछ अपना ठिकाना कर ले
हम तो कल ख्वाब-ए-अदम1 में शब-ए-हिजराँ2 होंगे

एक हम हैं कि हुए ऎसे पशेमान3 कि बस
एक वो हैं कि जिन्हें चाह4 के अरमाँ होंगे

हम निकालेंगे सुन ऐ मौज-ए-सबा5 बल तेरा
उसकी ज़ुल्फ़ों के अगर बाल परेशाँ होंगे

फिर बहार आई वही दश्त नवरदी6 होगी
फिर वही पाँव वही खार-ए-मुग़ीलाँ7 होंगे

मिन्नत-ए-हज़रत-ए-ईसा8 न उठाएँगे कभी
ज़िन्दगी के लिए शर्मिन्दा-ए-एहसाँ9 होंगे?

उम्र तो सारी क़टी इश्क़-ए-बुताँ10 में 'मोमिन'
आखिरी उम्र में क्या खाक मुसलमाँ होंगे

शब्दार्थ:
1. कभी न ख़त्म होने वाला सपना : 2. जुदाई की रात 3. शर्मिन्दा 4. चाहत 5. हवाओं के झोंके 6. मरूस्थल में भटकना 7. बबूल के काँटे , 8. हज़रत ईसा की ख़ुशामद , 9. एहसान लेके शर्मिन्दा होना , 10. हसीनों से प्यार-मोहब्बत