भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू भी मेरे साथ रोया किस लिए / रविंदर कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू भी मेरे साथ रोया किस लिए
तूने भी दामन भिगोया किस लिए

रोशनी का था न जब कोई पता
रात मैं इक पल न सोया किस लिए

सींच कर बंजर ज़मीं को ख़ून से
हार में कांटा पिरोया किस लिए

ऐसी मजबूरी थी क्या, ये बार ए ग़म
ना तवाँ काँधों पे ढोया किस लिए

तन भी मैला, मन भी मैला ही रहा
पैरहन का दाग़ धोया किस लिए

ऐ रवि होना जो था हो कर रहा
दिल ने अपना चैन खोया किस लिए