भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरा कुलीन कुल / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारा
तथाकथित यह कुलीन कुल
किससे चलता है
माँ से
या बाप से,
दायभाग से हो
या मिताक्षरा से,
दोनों में से
किसे मानते हो
बताओ?

तुम्हारा बाप
मूतासूत्र पहनता है
किन्तु तुम्हारी माँ!
नहीं पहनती कोई मूतासूत्र
उसने तुम्ळें अपने मुख से
कभी पैदा नहीं किया
वरन जना है
अपने जननांग से
तुम्हारा बाप
पुरुषसुक्त के महापुरुष की भांति
जरूर जन सकता है तुम्हें
अपने मुख से
उससे पूछो
मुख मैथुन करेगा क्या?