भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरा मेरा साथ रहे हो तेरा मेरा साथ रहे / रविन्द्र जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरा मेरा साथ रहे हो तेरा मेरा साथ रहे
धूप हो, छाया हो, दिन हो कि रात रहे
तेरा मेरा ...

ददर् की शाम हो या, सुख का सवेरा हो
सब गँवारा है मुझे, साथ बस तेरा हो
जीते जी मर के भी, हाथ में हाथ रहे
तेरा मेरा ...

कोई वादा ना करें, कभी खाये न क़सम,
जब कहें बस ये कहें, मिल के बिछडेंगे न हम
सब के होंठों पे, अपनी ही बात रहे
तेरा मेरा ...

बीच हम दोनो के, कोई दीवार न हो
तू कभी मेरे ख़ुदा, मुझसे बेज़ार न हो
प्यार की प्रीत की यूँ ही बरसात रहे
तेरा मेरा ...