भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरि सक्या त / धनेश कोठारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ब्वकदी रौ

मिन हल्ळु नि होण

तेरि सक्या त गर्रू ब्वकणै च

 

दाना हाथुन् भारु नि सकेंदु

अबैं दां तू कांद अळ्गौ

तेरि घ्यू बत्तयोंन् गणेश ह्वेग्यों

चौदा भुवनूं मा रांसा लगौ

ब्वकदी रौ मिन हल्ळु नि होण

तेरि सक्या त गर्रू ब्वकणै च

 

सदानि सिच्युं तेरु बरगद ह्वेग्यों

अपणा दुखूं मेरा छैल मा उबौ

ब्वकदी रौ मिन हल्ळु नि होण

तेरि सक्या त गर्रू ब्वकणै च

 

श्हैद मा शोध्यूं नीम नितर्वाणी

दिमाग बुजि सांका थैं ठगौ

ब्वकदी रौ मिन हल्ळु नि होण

तेरि सक्या त गर्रू ब्वकणै च

 

खाणै थकुलि तेर्यि सौंरिं

बारा पक्वान बावन व्यंजन बणौ

ब्वकदी रौ मिन हल्ळु नि होण

तेरि सक्या त गर्रू ब्वकणै च