भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरी कालिख / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वाशरी है यह
नंदन की
दमुआ की
वेकोलि की
जो धोती थी कभी
कालिख
लोडर की
सेठ की
मुनीम की
और तुम्हारी,
फिलहाल अभी बन्द है
इसका यह काम
क्योंकि अब यहाँ
नहीं है पानी।

पानी!
तेरे आब की मानिन्द
कहीं गहरे
चला गया है
रसातल में
ऐसे ही कोयला
निकालते-निकालते।

सच कहूँ
पानी तो
सभी का उतर गया है
पर तेरी
कालिख बरकरार है।

"वाशरी" व "नंदन" = दमुआ जिला छिन्दवाड़ा स्थिति वेस्टर्न कोलफिल्डस लिमिटेड की कोल वाशरी जिसमें कोयला धोया जाता है एवं वहीं पास की नंदन कोल खदान।