भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरे क़द थे सर्व ताज़ा है जम / क़ुली 'क़ुतुब' शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरे क़द थे सर्व ताज़ा है जम
ऊ चाया है या नौ-चमन में अलम

तू है चंद तारे हैं लश्कर तेरे
तूँ है शाह-ख़ूबाँ में तेरा हश्म

वरक़ सना परनीं लिखया तुज सा होर
अज़ल के मुसव्विर का हरगिज़ क़लम

सिकंदर कूँ थी आरसी जम कूँ जाम
तेरे हस्त है दरपन होर जाम-जम

तेरे मुख के फुल बन कूँ देख लाज थे
छुपाया है मुख आपने कूँ इरम