भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तेरे देवता को मैं नकारता हूँ / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तूने कहा
जल देवता
मैंने मान लिया

तूने कहा
वायु देवता
मैंने मान लिया

तूने कहा
अग्नि देवता
मैंने मान लिया

तूने कहा
पृथ्वी देवता
मैंने पृथ्वी को मान लिया देवता

तूने कहा
सूर्य देवता
मैंने यह भी मान लिया

मैं मानता भी क्यों नहीं
ये सभी आवश्यक थे
मेरे जीने के लिए

तूने फिर कहा
इन्द्र देवता
मैं क्यों मानूँ
तेरे इस छली,
कुटिल और विलासी को
देवता,
इसके बाद के
तेरे हर देवता को मैं नकारता हूँ।