भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरे पलकन पाँव धरौ न रसिया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरे पलकन पाँव धरौ न रसिया।
मोरे बाप कें ऊँची अटरियाँ तोरी बखरी मो सें धरै न रसिया।
अपने बाप कें मैं हौं अकेली तेरी एक न होकें रहूँ रसिया।
अपने बाप के मैं अत प्यारी, नौ दस मास पीर न सहूँ रसिया।
मोरी बलम नें एक न मानी धर पकरी बाँह पकड़ लऔ रसिया।
मोरे अँगनवा बजत बधावा छम छम नाचै ननद रसिया।
कील खोल कंगना पहिरायेय जुग-जुग जियें बलम रसिया। तेरे...