भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरे मेरे दरम्यां जो राज़ है / कुसुम ख़ुशबू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरे मेरे दरम्यां जो राज़ है
वो हमारे प्यार का आग़ाज़ है

हम वफ़ा का इम्तिहां लेते नहीं
ये हमारा मुनफ़रिद अंदाज़ है

वुसअतें अपनी बढ़ा ले ऐ फ़लक
ये हमारी आख़िरी परवाज़ है

ज़ख़्म तूने वो दिए कि क्या कहें
ऐ महब्बत! फिर भी तुझ पर नाज़ है

हर नफ़स रहता है तेरा इंतज़ार
ख़ुदकुशी का ये अजब अंदाज़ है

 तुम गए तासीर लफ़्ज़ों से गई
 हां ! उसी दिन से ग़ज़ल नासाज़ है

 है शनासाई भी तुझसे ज़िंदगी
फिर भी तू इक कशमकश है राज़ है