भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरो मन पापी तन नौंनों / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरो मन पापी तन नौंनों,
एक भाँत ना दौनों।
मन, माटी के मोल, कदर कम।
तन कीमत में सोनों।
मन से रात अदेखसबई कोऊ।
तनकौ मचौ दिखौनों।
ऐसे नौने सुन्दर तन में,
मन दऔं, बिध अनहौनौं।
ईसुर नमक अकेले बिन सब।
बिनजन लगत अरौनों।