भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तैयारी / गिरिराज किराडू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसमान ने पूरी कर ली थी
बरसने की तैयारी
धरती ने पूरा खिलने की

देह ने पूरी कर ली थी
तैयारी उड़ने की
आत्मा ने मुक्ति की पूरी

तभी गोली लगी आँख में
जिसमें नहीं थी पूरी
उजड़ने की तैयारी