भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तैर रही थी वो / कमला दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पतझर का था आरम्भ
और तैर रही थी वो
अपने जीवन के पतझर में
पीले पत्ते-सी
और उन्मुक्त ।