भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तों पागल हमरा कहोॅ कहोॅ दीवाना / सियाराम प्रहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तों पागल हमरा कहोॅ कहोॅ दीवाना
हमरा आवै छै समझके गला लगाना

हमरोॅ जें धरम करम छै सब इहेॅ छै
दुखिया के अपनोॅ छाती से चिपकाना

जहिया से देखने छी भौरा के गैतें
तहियासे लागै मौसम बड़ोॅ सुहाना

छै रोटी बड़ोॅ चीज हमहूँ जानै छी
है लेली नै दामन में दाग लगाना

आबोॅ सब मिल के गीत प्यार गे गाबोॅ
छै घृणा द्वेष के नामो निशां मिटाना।