भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोखे प्यार जा सभु ॾांव / कला प्रकाश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोखे प्यार जा सभु ॾांव
छोकरु छड़ो पर में पहे
तूं माण्हू ई ॿियो थी पईं
पेर ज़मीन ते न टिकनीं
हवा में पेई हलीं
को पखी तुंहिंजी उॾाम सां न पहुचे
अहिड़ो वर्तणु तुंहिंजो
ॼणु गुल पेई चूंडीं
तारनि खे पेई पकिड़ीं
राॻ पेई ॻाईं
चांडोकी पेई झटीं!
छोकर खे अची निभाॻवरितो आहे
तो जहिड़ी मूमल घर में
वेठो ॿाहिर धूड़ि पाए
पर, तूं मूंखां लिखाए वठु कुंवारि
छोकरु धर्म जा घिका खाई मोटी ईन्दो
घरु बि तुंहिंजो आहे
वरु बि तुंहिंजो आहे।
कुंवारि, तूं मांदी न थीउ
तुंहिंजोमांदो मुंहुं
मुंहिंजो जीउ मारियो छॾे।