भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोड़ देंगे जंगलों का मौन / अनिल कार्की

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोड़ देंगे जंगलों का मौन
वे नहीं करेंगे इन्तज़ार सूरज आने का
बल्कि अल-सुबह ही
वे कुहरे की चादर चीरकर
भेड़ों के डोरे[1] खोल देंगे
और चल देंगे जंगल की तरफ

तब भेड़ों के खाँकर[2] बजेंगे जंगलों के बीच
खनन-मनन वाली धुनों में

दूर किसी पहाड़ पर
कुहरे के भीतर गूँजेंगी
शाश्वत खिलखिलाहटें
बजेंगी
घस्यारिनों[3] की दरातियाँ

धीरे-धीरे ही छटकेगा
कुहरा
आवाजें और साफ
और हमारे करीब होती जाएँगी
एक दिन

ठीक उसी वक़्त धार[4] पर चढ़ेगा सूरज
और बिखेर देगा
ढलानों पर
रोशनी का घड़ा
मोतियों की तरह !

शब्दार्थ
  1. रस्सियाँ
  2. पीतल की घण्टी
  3. जानवरों के लिए चारा काटने वाली पहाड़ी महिलाएँ
  4. पहाड़