भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोरे नैनाँ हैं मतवारे / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोरे नैनाँ हैं मतवारे,
तन घायल कर डारे।
खन्जन खरल सैल से पैने,
बरछन से अनयारे।
तरबारन सें कमती नइँयाँ,
इनसे सबरे हारे।
ईसुर चले जात गैलारे।
टेर बुलाकें मारे।