भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोरोॅ दुनिया पर हम्में बिचारै छी / जयप्रकाश गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोरोॅ दुनिया पर हम्में बिचारै छी
सुख खोजै छी खौजै छी खोजै छी

होथैं बिहान धूपेॅ रं पसरौं
डगर-डगर छाया रं ससरौं
रही-रही सांझ निहारै छी

सौ-सौ आकाश बादल रं भटकौ
आशोॅ के जंगल बतासोॅ रं अटकौं
लोरोॅ सें प्यास बुझावै छी

रंग-विरंग के हमरोॅ सपना
मन झूलै छै चंदन के पलना
प्रेमोॅ के याद संवारै छी