भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तोरो उड़न-उड़न जीव होय रे बन्ना / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

तोरो उड़न-उड़न जीव होय रे बन्ना
इतनी धुपनऽ मऽ
तोनऽ कोका भरोसा घरऽ छोड़यो रे बन्ना
इतनी धुपनऽ मऽ
तोनऽ मैया भरोसा घरऽ छोड़यो रे बन्ना
इतनी धुपनऽ मऽ
तोनऽ बापऽ भरोसा घरऽ छोड़यो रे बन्ना
इतनी धुपनऽ मऽ
तोनऽ कोका भरोसा घरऽ छोड़यो रे बन्ना
इतनी धुपनऽ मऽ
तोनऽ काका भरोसा घरऽ छोड़यो रे बन्ना
इतनी धुपनऽ मऽ