भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोहे सुमिरौं कर जोर कालिके / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

तोहे सुमिरौं कर जोर कालिके तोहे सुमिरौं
हाँ हाँ कालिके तोहे सुमिरौं अरे हाँ हाँ कालिके तोहे सुमिरौं
तोहे सुमिरौं
तोहे सुमिरौं कर जोर कालिके तोहे सुमिरौं

हाथ खड़ग अरु खप्पर राजै मंुडमाल लटकाए
मैया मंडमाल लटकाए
लाल जीहवा लप लप लपके तीनों लोक डराए
कालिके तोहे सुमिरौं
तोहे सुमिरौं
तोहे सुमिरौं कर जोर कालिके तोहे सुमिरौं

सुंभ निसुंभ दानव तुम मारे रक्तबीज संहारे
मैया रक्तबीज संहारे
महिषासुर को मार मार के जगजननी कहलाए
कालिके तोहे सुमिरौं
तोहे सुमिरौं
तोहे सुमिरौं कर जोर कालिके तोहे सुमिरौं