भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तौलगि जिनि मारै तूँ मोहिं / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग: गौरी
तौलगि जिनि मारै तूँ मोहिं।
जौलगि मैं देखौं नहिं तोहिं॥टेक॥

इबके बिछुरे मिलन कैसे होइ।
इहि बिधि बहुरि न चीन्है कोइ॥१॥

दीनदयाल दया करि जोइ।
सब सुख-आनँद तुम सूँ होइ॥२॥

जनम-जनमके बंधन खोइ।
देखण दादू अहि निशि रोइ॥३॥