भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

त्यानमेन स्कवेयर में / कृश्न खटवाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

त्यानमेन स्क्वायर में अॼु
मारिया विया आहियूं, तूं ऐं मां।

असीं जुवान हुआसीं जॾहिं
केई ॾहाका डिॼन्दे

घरनि अन्दर पाणु लिकाईन्दे
अधूरी जीवन
जी रहिया हुआसीं।

असीं वरी ॼावा आहियूं,
अॼु
कंहिं ॿिए मुल्क में
किनि ॿियनि जिस्मनि में
असीं गोलियुनि सां मरी
अमर बणिया आहियूं
वरी न मरन्दासीं।

सदा सदा ज़िंदा रहन्दासीं
पंहिंजे पोयनि जे
आज़ाद रूहनि में
हिन पार मां, हुन पार तूं।