भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

त्रिपथगा-3 / सुधीर मोता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उतर गर्भ से आया
नत मस्तक

ठोस धरातल
फिर पग पृथ्वी पर

फिर चला और नीचे
नीचे
वह अंत चरम

उससे भी पहले
एक जीवन में जीवन तीन

अवरोह किया
आरोह लिया
उड़ा फूल कभी अति
प्रसन्न

इति आदि सब देखी
और मध्य भी देखा

देखा सबने
हो तल्लीन !