भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

त्रिलोचन जी का मुख / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस साल सरसों के तेल में आधा चम्मच
पिसी हुई हल्दी की तरह है - बसंत-पंचमी

पृथ्वी भीतर से बीमार है
त्रिलोचन का मुख पीला पड़ा है ।

शाम को एक पंख हवा मे बैठकर
पहाड़ की ओर गया है ।

अस्थिर बैठा हूँ -- कहीं किसी
दुर्घटना का समाचार ना आए ।