भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थकलु सुबूहु / कृश्न खटवाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थकल सुबूह
ॿूसाटियल पुराणो कमरो
ॿांह भॻल कुरिसी,
आङुरियुनि में चिथरूं लथल
अधु भरियलु चांहिं जो कोपु
भिति ॾकन्दड़, दाहूं कन्दड़
पुरााो गोलु घुमन्दडु पंखो।

रंग लथल सीखुनि वारी दरीअ मां,
कै़द में बंद दुनिया
टुटल कुरिसीअ ते बेजान वेठलु जिस्मु
चांहिं मां उॾामन्दड़ ॿाफ
उदास उभे साह जियां।
ठोकरूं खाधियूं आहिनि मूं
तेज़ डुकन्दड़ फुटबाल जियां
जॻ जे रांद मैदान ते
दोस्तनि दुश्मननि जी मसलिस
हार जीत जी जंगि में।

विकामियलु आहियां
हर ज़िंदा फ़र्द जियां
कारखाननि जे बेजान मशीनुनि खे
या आफ़ीसुनि जे बांसी फ़ाईलुनि खे
या ‘होटलुनि जे जूठनि बासणनि खे।

थकल सुबूह
चिथरूं लथलु कोपु
चांहिं मां उॾामन्दड़ ॿाफ
मुंहिंजी कुल ज़िंदगी आहे।

(कंहिं मख़ज़न में छपियल-1994)