भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थांनै सिमरां थांनै घ्यावां / सत्येन जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थांनै सिमरां थांनै घ्यावां
थांरा ई थांरा जस गावां

म्हां हां पान लाजवंती रा
थां रै परस बिना कुमळावां

जद जद थांरी औळू आवै
कुरजां रा चितराम कुरावां

थां बिन कठै आवड़ै पल भर
आखी उमर कठै बौळावां

जूना कागद हां फाटौड़ा
चेपा दे दे काम चलावां

जुड़ जावै टूटोड़ौ दरपण
तेड़ां नै कीकर बूरावां

जे सैं मारग व्है रूध्योड़ा
पितरां री डांडी बण जावां