भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थारो काई काई रूप बखाणूँ रनुबाई / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

थारो काई काई रूप बखाणूँ रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारी अगळई मूंग की सेंगळई रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारो सिर सूरज को तेज रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारी नाक सुआ की रेख रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारा डोला निंबू की फाक रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारा दाँत दाड़िम का दाणा रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारा ओंठ हिंगुळ की रेख रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारा हाथ चम्पा का छोड़ रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारा पांय केळ का खंब रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।
थारो काई काई रूप बखाणूं रनुबाई,
सौरठ देस सी आई ओ।।