भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थाळी-थाळी निपटगी खीर / अशोक जोशी 'क्रान्त'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थाळी-थाळी निपटगी खीर
टळिया-टळिया रैग्या पीर।

थांरी थाळी थर री खीर
जण अब मांगै कैड़ौ सीर।

ओळूं में झरता दिन-रात
नीं थाकै नैनां रा नीर।

कीकर ढाका थांरा पोत
थांरौ बागौ लीरालीर।

मन मरजी रा रसिया मीत
कद जाणै कळियां री पीर।