भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थूहर / राधावल्लभ त्रिपाठी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं हैं नीम, पीपल और बड़ के
बड़े-बड़े पेड़
देवदारु की तो
कथा ही दूर छूट गई
दूर-दूर तक
चिलचिलाती धूप और
लीलने को बढ़ा आता रेत का सागर
सुरसा की तरह मुँह फैलाए ।
इस मरुस्थल से लड़ रहा है
एक अकेला थूहर ।