भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थे मिरे ज़ख़्मों के आईने तमाम / हनीफ़ कैफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थे मिरे ज़ख़्मों के आईने तमाम
दाग़-दाग़ आए नज़र सीने तमाम

सब नज़र आते हैं चेहरे गर्द गर्द
क्या हुए बे-आब आईने तमाम

एक मंज़िल और है इक जस्त और
आदमी तय कर चुका ज़ीने तमाम

मौत ले कर एक आँधी आई थी
खो दिए इंसान बस्ती ने तमाम

ताज़गी चेहरे पे अब तो लाइए
पी लिया है ज़हर ‘कैफ़ी’ ने तमाम