भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थोड़ा-थोड़ा / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थोड़ा-थोड़ा जीते हुए
थोड़ा-थोड़ा मरने का
त्रासद समय है यह ।

मरना जीने की शर्त है ।

जीते हुए तुम्हारे साथ
मरने की बात लेकिन
याद कहाँ रहती है ।

जीना सपने देखना है ।

सपने से गुज़रते हुए
मिल जाते हैं लोग
बनती जाती हैं यादें ।

यादें धोखेबाज़ होती हैं ।

जैसे टूटे नोटों की शक़्ल
फुटकर पैसों में नहीं मिलती
टूट जाती हैं यादें भी ।

डोर छूटती है थोड़ी-थोड़ी ।
जीते-मरते हैं थोड़ा-थोड़ा ।