भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थोड़ा-सा नीर पिला दै / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

थोड़ा-सा नीर पिला दै, बाकी घाल मेरे लोटे मैं

अरे तूँ भले घराँ की दीखै, तन्ने जन्म लिया टोटे मैं

तू मेरे साथ होले गैल, दामण मढ़वा दिऊँ घोटै मैं !


भावार्थ

--'थोड़ा-सा पानी मुझे पिला दे, बाकी मेरे लोटे में डाल दे । अरी ओ, तू तो भले घर की लगती है, लेकिन

ऎसा लगता है जैसे तेरा जन्म बड़े ग़रीब घर में हुआ है । चल, मेरे साथ चल । मैं तेरे लहंगे को गोटे से मढ़वा

दूंगा ।