भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थोड़ा कम भी / इरेन्‍द्र बबुअवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं है ज़रूरत
परदे के पार रोशनी को
देखने के लिए
परदा हटाने की

थोड़ी कम रोशनी में भी
दिख सकती है साप़फ-साप़फ
बिना चमक-दमक के
कुएँ में तैरती मछलियाँ
एक क़तार में लौटते शाम को
अपने घोंसले की ओर पक्षी

थोड़ी कम रोशनी से
मिला सकते हैं आँख
ले सकते हैं सुकून की साँस
थोड़ी कम हवा में भी

थोड़ा कम प्यार भी
अपनापन
लम्बे समय तक बनाए रख सकता है !