भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थोड़ी सी ऊष्मा / शैलेन्द्र चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रक्रिया मे पेड़ बनने की

कोई पौधा चाहता है

थोड़ी सी ऊष्मा, थोड़ा सा जल

और थीड़ी ईमानदारी

परवरिश में


ठीक यही

यही सब कुछ

ऊष्मा थोड़ी सी, स्नेह

थोड़ी ईमानदारी

होती है ज़रूरी

संबंधों में भी

आदमी और आदमी के


बढ़ते जाते हैं पग

अनुभूति बनी रहती है

आनंद की मन में

बना रहता है प्रवाह

जीवन में