भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दण्डक अरण्य / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जल नहीं
एक जर्रा भी नहीं

ताक रहा चारों ओर
कि कब
जख्म को मिले
एक स्पर्श

समेट ले सारा लहू
जो बह गया था
शिराओं से

दंडक अरण्य
उग आया है
आंखों में