भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दरिया को पागल करने को अक्स-ए-समुन्दर काफ़ी था / ज़ाहिद अबरोल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दरिया को पागल करने को अक्स-ए-समुन्दर[1] काफ़ी था
ख़्वाब में और जुनूँ[2]भरने को ज़िह्न-ए-सुख़नवर [3]काफ़ी था

झुकने को तैयार था लेकिन जिस्म ने मुझको रोक दिया
अपनी अना[4]ज़िन्दा रखने का जो बोझ सर पर काफ़ी था

अपने-अपने वक़्त पे सारे दुनिया जीतने निकले थे
शाह[5] थे वो कि फ़क़ीर सभी का लोगों में डर काफ़ी था

दुनिया को दरकार [6]नहीं था अज़्म[7] सिकन्दर जैसों का
बुद्ध ,मुहम्मद,ईसा, नानक-सा इक रहबर[8] काफ़ी था

तीन बनाए ताकि वो इक दूजे पर धर पायें इल्ज़ाम[9]
वरना गूँगा, बहरा, अन्धा, एक ही बन्दर काफ़ी था

ग़म दुख दर्द,मुसीबत, ग़ुर्बत[10] सारे यकदम टूट पड़े
इस नाज़ुक़ से दिल के लिए तो एक सितमगर[11] काफ़ी था

‘ज़ाहिद’ बारिश-ए-संग[12]गिराँ[13] और ख़्वाबों के ये शीश महल
इन के लिए तो ग़फ़लत[14] का इक नन्हा पत्थर काफ़ी था

शब्दार्थ
  1. समुद्र का प्रतिबिम्ब
  2. उन्माद
  3. कवि का मस्तिष्क
  4. अहं
  5. शासक,राजा
  6. वांछित
  7. संकल्प
  8. मार्ग-दर्शक
  9. दोष
  10. दरिद्रता
  11. अत्याचारी
  12. पत्थरों की बारिश
  13. भारी- भरकम
  14. उपेक्षा