भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द खोटा क्यों लगा, सोना खरा कैसे लगा / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द खोटा क्यों लगा, सोना खरा कैसे लगा।
क्या कसौटी थी हमारे सामने फिर से लगा।

उम्र भर ग़ज़लें कहीं, लेकर भुनाने को गये
छापनेवाले लगे कहने कि तू पैसे लगा।

मौत जैसी नींद की मारी ज़मीनों को जगा
धूप साये में न जिनके पेड़ कुछ ऐसे लगा।