भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द जी दवा / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिलि जे दर्दनि जी दवा, तो दर मिले,
तो जहिड़ो ॿियो न को मूंखे, डाक्टर मिले।

1.
जिं़दगीअ जो राज़, हीउ मां कंहिं सां सलयां
हाल ही दर्द भरियो, कंहिं सां करियां
दिलि जो ग़मु लाहे अहिड़ो दिलबर मिले
तो जहिड़ो न को ॿियो-डाक्टर मिले।

2.
बिरह तुंहिंजे जी लॻी बीमारी
साईं तुंहिंजे मिलण जी इंतज़ारी
मूंखे जो तो सां मिलाए त अहिड़ो मुहिब मिले
तो जहिड़ो न को ॿियो-डाक्टर मिले।

3.
मर्ज़ मुंहिंजे खे सुञाणे, न को तूं खां सिवाइ
दर्द मुंहिंजे जी आहे तो वटि दवा
राही को अहिड़ो ‘निमाणी’ खे सचो रहबर मिले
तो जहिड़ो न को ॿियो-डाक्टर मिले।