भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द हो तो / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द हो तो बँटाने को लोग तो बहुतेरे ।
ज़रा बोलो तो सही, दूर हो व्यथा जो घेरे ।
लेकिन आख़िर उसे कुछ कहा भी तो जाए-
दौड़-दौड़ ख़ुद ही जो दर्द से करता है फेरे ।