भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द / प्रकाश पाडगाँवकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: प्रकाश पाडगाँवकर  » दर्द

लाखों नयन सितारों के
बयान करेंगे दर्द मेरा
दिल तुम्हारा पत्थर का
बोलो कैसे आर्द्र होगा ?

अपने दर्द का ज़िक्र किसी से
बिना वज़ह मैं क्या करूँ
दर्द मेरे साथ मेरे
साए की तरह सदा रहेगा
काँटे अपने लिए चुने
फूल सभी तुम्हें दिए
तुम्हारी ख़ुशी के लिए जी-जान लड़ाई
कई जन्म वार दिए ।

मूल कोंकणी से अनुवाद : सोनिया सिरसाट