भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दलबदलू / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ताड़, खजूर, पौधे, तृण-
चले जा रहे हैं धरती से आकाश की ओर;
किरणें, वर्षा की बूँदें-
चली आ रही हैं आकाश से धरती की ओर;

सृष्टि में कब न हे
दलबदलू!