भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दल के बिन तेॅ जानले-प्रजातंत्र ही शेष / अमरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दल के बिन तेॅ जानले-प्रजातंत्र ही शेष
दलगत मेँ पड़लोॅ फिरै-हमरोॅ भारत देश
हमरोॅ भारत देश, कहै छौं बात ई सच-सच
शासन रोॅ कीचड़ मेँ दल रोॅ पिल्लू खच-खच
होतै आरो देश जहाँ पर होतै दू दल
अमरेन्दर अपनोॅ देशोॅ में दल रोॅ दलदल।