भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दस्ताने / गंगासहाय 'प्रेमी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टिल्लू जी के हाथ पड़ गए
मम्मी के दस्ताने,
कुछ भी नहीं समझ में आया
घंटों खींचे-ताने।
पैरों में तो तंग एकदम
हाथों में थे ढीले,
और क्या करें, इसी सोच में
पड़े बिचारे पीले!