भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दस गल रुपीया ढामा मखान सुईनी केन ईखी गल रुपीया / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दस गल रुपीया ढामा मखान सुईनी केन ईखी गल रुपीया
ढामा मखान सुईनी केन ईखी
ऊरानी जोजलोम मखान रे बलेमा जल्डी सेने जा
गल रुपया ढामा मखान सुईनी केन ईखी गल रुपया ढामा
मखान सुईनी केन ईखी
चेचेरेज नी नाड़ी मखान रे बालेमा जल्डी सेने जा
गल रुपीया ढामा मखान धोबन केन ईखी
गुदड़ी नी टाटम मखान रे बालेमा चट्टो सेने जा
मोनुवा नोटो मखान नायन केन ईखी
नेरुखो नी चेरेज मखान रे बलेमा चट्टो सेने जा

स्रोत व्यक्ति - पार्वती बाई, ग्राम - मातापुर