भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दहेज‌ / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने मम्मी पापा के संग ,
चुहिया पहुंची थाने|
बोली चूहे के घरवाले,
हैं दहेज दीवाने|

शादी के पहले से ही वे,
मांग रहे हैं कार|
बंद करो थाने में उनको,
चटपट थानेदार|

इस पर भालू कॊतवाल ने,
चूहे को बुलवाया|
थाने में घरवालों के संग,
उसको बंद कराया|